latest news :

6/recent/ticker-posts

हिमाचली टोपी की पुरी जानकारी- Himachali Cap information In Hindi

हिमाचली टोपी देश भर मे हिमाचल बासियों की पहचान है ।
हिमाचल में जब भी कोई शुभ कार्य होता है तो हिमाचली टोपी को एक महत्पूर्ण उपहार के रूप में जाना जाता है।हिमाचली टोपियों का इस्तेमाल विभिन्न रंगों में किया जाता है जैसे हरे और लाल रंग,काले इत्यादि। हिमाचल में टोपी शान का प्रतीक भी है। क्योंकि यह मेहमानों के सम्मान में भी विवाह और अन्य उत्सवों के दौरान विशेष स्थान पाता है।
हिमाचली होने के नाते मैं हमेशा हिमाचली टोपी (टोपी) पहनना पसंद करता हूं। यह मुझे पहाड़ी संस्कृति और परंपराओं का बोध कराता है। मैं अपने आसपास के लोगों को बचपन से देख रहा हूं कि यह टोपी पहने हुए है। हिमाचलवासी इस टोपी को पहनने में गर्व महसूस करते हैं। मुझे इस टोपी की उत्पत्ति का इतिहास नहीं पता है, लेकिन यह युगों से हमारे पारंपरिक पोशाक का हिस्सा बन गया है। और ये बिलकुल ही सच है की हिमाचली टोपी की जड़ें हिमाचल की पहाड़ियों में हैं। हिमाचल की पहाड़ियों पर हड्डियों को ठंडा करने वाली ठंड का कोई परिचय नहीं है। कुछ भागों में तापमान - 10 ° c तक नीचे चला जाता है। और ऐसे हालात मे हमें अपने आप को गर्म रखने के लिए कवर करने की जरूरत होती है और ये ऊनी कैप वहां अच्छा काम करती हैं। 


हिमाचली कैप्स के विभिन्न प्रकार हैं - बुशहरी, कुल्लूवी, किन्नौरी और लाहुली। और उनके डिज़ाइनों में भिन्न हैं। मुझे यकीन नहीं है, लेकिन बुशहरी टोपी को हिमाचल में पारंपरिक टोपियों(caps) का मूल माना जाता है। किन्नौर में सभी पुरुष और महिलाएं किन्नौरी टोपी पहनते हैं।

इसे भी पड़े :himachal best destination

हिमाचली टोपियों के प्रकार हैं:

1. कुल्लुवी टोपी ( कुल्लु जिला)
2. बुशहरी टोपी ( रामपुर , बुशहर)
3. किन्नौरी टोपी (किन्नौर)
4.लाहौली टोपी

1. कुल्लुवी टोपी ( कुल्लु जिला)

कुलुवी टोपी ने हिमाचल मे ही नहीं बल्कि विश्व स्तर पर एक नाम भी अर्जित किया है ।कुल्लुवी टोपी मुखतः कुल्लु जिले के लोग पहनते हैं और इसकी पहचान करने के लिये फोटो में देखें। कुल्लू टोपी आकार में गोल होती है और अलग-अलग रंग के सपाट भी होते है। रंगीन बॉर्डर का एक बैंड सुंदर पैटर्न के साथ सामने की तरफ चमकता है, जिसे अलग-अलग छोटे करघे और पीछे के हिस्से पर बुना जाता है, जो सिर को कवर करता है, जो की स्थानीय ऊनी यार्न से बना होता है और कभी-कभी कपास या किसी अन्य प्रकाश सामग्री से भी बना होता है। इन कैप्स को छोटे, मध्यम और बड़े के रूप में वर्गीकृत किया गया है। कुल्लू टोपी की कीमत उपयोग किए गए कपड़े और सीमा पर पैटर्न पर निर्भर करती है।
Buy this topi

इसे भी पड़े :himachal best destination

2. बुशहरी टोपी

बुशहरी टोपी हिमाचल के रामपुर , बुशेहर क्षेत्र से जुड़ा हुआ है।बुशहरी टोपी को भी राजनीति का दर्जा दिया गया है

 

यह वह टोपी है जो कांग्रेस का प्रतीक बन गया है, हिमाचल के पूर्व सीएम वीरभद्र सिंह (CM Virbhadra Singh) हरी टोपी पहनने के लिए इस्तेमाल करते हैं। अगर आप इस टोपी की पहचान करना चाहते है तो जान लीजिये की ये टोपी तोता-हरा मखमली या शनील कपड़े की पट्टी के साथ सजी रहती है।इसकी पहचान करने के लिये फोटो में देखें।

इसे भी पड़े :himachal best destination

3. किन्नौरी टोपी (किन्नौर)

किन्नौरी टोपी हिमाचल के किन्नौर जिले से जुडी हुई है। किन्नौरी टोपी को भी राजनीति का दर्जा दिया गया है यह वह टोपी है जो भारतीय जनता पार्टी यानि की हिमाचल मे बर्तमान सरकार का प्रतीक बन गया है, अगर आप इस टोपी की पहचान करना चाहते है तो जान लीजिये की ये टोपी लाल रंग रंगीन मखमली या शनील कपड़े की पट्टी के साथ सजी रहती है।"इसकी पहचान करने के लिये फोटो में देखें।


 हिमाचल के बर्तमान सीएम श्री जय राम ठाकुर (CM JAI RAM THAKUR)लाल रंग -रंगीन मखमली टोपी पहनने के लिए इस्तेमाल किया करते हैं।

इसे भी पड़े :himachal best destination

4.लाहौली टोपी

हिमाचल प्रदेश के लाहौल क्षेत्र में पहना जाने वाला लाहौली कैप अपने कुल्लूवी ऊनी चचेरे भाई के समान है,Lahauli Cap आकार में गोल होती है इसकी पहचान करने के लिये फोटो में देखें। "केवल इस अंतर के साथ कि अलंकरण के माध्यम से कोई अतिरिक्त उपचार प्रदान नहीं किया जाता है। इस टोपी का शेष भाग सादा ही रहता है। "

इसे भी पड़े :himachal best destination



टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां